वास्तु विशेषज्ञ दिल्ली व एन0सी0आर0 में | भारत में वास्तु विशेषज्ञ | वास्तु विशेषज्ञ | वास्तु शास्त्र | मुफ्त वास्तु | वास्तु दोषों का मुफ्त समाधान
Dwarkadheeshvastu.com
Hindi   |   Sanskrit   |   English   |   Gujrati   |   Bangali   |   Oriya   |   Telugu   |   Nepali   |   Marathi   |   Kannad   |   Asamiya   |   Urdu   |   Malyalam   |   Avdhi   |   Ved   |   Puran   |   Bhagwat   |   Ramayan   |   Geeta   |   Punjabi   |   Jain Dharm   |   Islam   |   Karm Kand
Facebook Twiter Blogger Google+ You Tube
Dwarkadheeshvastu.com

    वास्तु सिद्वान्त

  1. वास्तु क्या है?
  2. दिशाएँ देखने की विधि
  3. भूमि का चयन
  4. दिशाओं का विभाजन
  5. बह्मस्थान का निर्धारण
  6. प्लॉट का आकार
  7. शुभ प्लॉट / भवन
  8. भवन में सदस्यों का स्थान
  9. घर बनाने का क्रम
  10. भवन का निर्माण
  11. कम्पाउन्ड वॉल
  12. मंदिर का स्थान
  13. बोरिंग/अन्डरग्राउन्ड वॉटर टैंक
  14. दरवाजे
  15. दरवाजे के साथ सीढ़ी का निर्माण
  16. दरवाजों की चाल (क्रम)
  17. सीढ़ी व मुमटी
  18. रसोई का स्थान
  19. टॉयलेट का स्थान
  20. सेप्टिक टैंक
  21. फर्श का लेबल / पानी का निकास
  22. फर्श का सड़क से लेबल
  23. चबूतरे का निर्माण
  24. बेसमेंट के प्रभाव
  25. टाँड/परछत्ति/अलमारी
  26. डूप्लेक्स हाउस / मेजानाईन फ्लोर
  27. डक्ट / शॉफ्ट / खुला स्थान
  28. कोनों का कटना/बढ़ना
  29. बॉलकनी के प्रभाव
  30. बहुमंजिला भवन में बॉलकनी के प्रभाव
  31. बॉलकनी का सही निर्माण
  32. बिजली का तार / रस्सी
  33. भूमि व निर्माण में कोना कटना / बढ़ना
  34. छत की आर0सी0सी0 स्लैब का निर्माण
  35. छत का तल नीचा होना
  36. छत का तल ऊँचा होना / ओवरहेड वॉटर टैंक
  37. छत पर निर्माण
  38. छत का आकार
  39. छत पर निर्माण से कमरों पर प्रभाव
  40. कोने में निर्माण / गढ़ढा होना
  41. पैराफिट वॉल / रैलिंग
  42. झण्डा / एंटीना / खम्भा
  43. सड़क टक्कर
  44. पड़ोस के भवन की बेसमेंट
  45. आस–पास ऊँचा / नीचा होना
  46. पड़ोस के भवनों का प्रभाव
  47. बहुमंजिली इमारत में मंजिलों पर प्रभाव
  48. सूर्य के द्वारा वास्तु दोष जानना
  49. भवनों के नक्शे (वास्तु दोष व समाधान सहित)
 

AKSHYA TRATIYA SPECIAL (21 April 2015)


Musical (Mp3) Collection : Music-Parashuram-Ji-Ki-Katha-Hindi-Musical   |   Music-Annapoorna-Astottar   |   Music-Vat-Savitri-Vrat-Katha   |   Music-Mahabharat-Katha   |   Music-Mahabharat-Musical

PDF Collection : Epic-Annapoorna-Rahasyam-Hindi   |   Epic-Vat-Savitri-Vrat-Katha   |   Epic-Mahabharat

आज अक्षय तृतीया है। पौराणिक कथा और ग्रंथों की मानें तो इस दिन आप जो भी शुभ कार्य करते हैं, उनका अक्षय फल मिलता है। नया चांद आने के तीसरे दिन यह दिन आता है, इसलिए इसे तृतीया कहते हैं। इसी कारण इस खास दिन को अक्षय तृतीया कहा जाता है। वैसे तो अक्षय तृतीया नि:स्वार्थ भाव से जरूरतमंदों को दान करने का महापर्व है। हिंदू कैलेंडर में अक्षय तृतीया को एक शुभ दिन के तौर पर गिना जाता है। इस दिन सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति एकजुट होकर चलते हैं, जो हर तरह के काम के लिए शुभ मुहूर्त माना जाता है। यही वजह है कि लोग इस दिन को किसी नए सामान की खरीदारी और इन्वेस्टमेंट के लिए अच्छा मानते हैं। खरीदने के साथ ही कोई चीज दान करना भी इस दिन पुण्य बटोरने व समृद्धि लाने का प्रतीक माना जाता है। इसे आखा तीज भी कहते हैं। इस दिन घर में हवन पूजा और पितरों को श्राद्ध देना भी काफी महत्वपूर्ण माना जाता है।
              कहते हैं इस दिन त्रेता युग की शुरुआत हुई थी। अमूमन परशुराम का जन्मदिन भी इसी दिन आता है। इस दिन सभी विवाहित और अविवाहित लड़कियां पूजा में भाग लेती हैं। इस दिन लोग भगवान गणेश और देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं। कई लोग इस दिन महालक्ष्मी मंदिर जाकर सभी दिशाओं में सिक्के उछालते हैं। सभी दिशाओं में सिक्के उछालने का कारण यह माना जाता है कि इससे सभी दिशाओं से धन की प्राप्ति होती है।
              कहा जाता है कि इस खास दिन पर आप जितना दान-पुण्य करते हैं, आपको उससे कई गुना ज्यादा आपको रिटर्न मिलता है। परंपरा के अनुसार, अपने धन को बढ़ाने का यह एक शुभ दिन है और इसी बात में यकीन करते हुए सोना खरीदने का प्रचलन शुरू हो गया, वरना शास्त्रों में इस दिन सोना खरीदने का कोई उल्लेख नहीं मिलता।
              एक पुरातन कथा तो यह भी है कि आज के ही दिन भगवान शिव से कुबेर को धन मिला था और इसी खास दिन भगवान शिव ने माता लक्ष्मी का धन की देवी का आशीर्वाद भी दिया था। आइए जानें, इस खास अवसर पर हमें किस तरह के शुभ कार्यों को अंजाम देना चाहिए, जो हमारे लिए शुभ फलदायक साबित होगा।
              इस खास दिन पर गरीब और भूखे को खाना जरूर खिलाना चाहिए और उन्हें उनकी जरूरत के हिसाब से दान भी देना चाहिए। इस दिन दान-पुण्य करने से क्या-क्या फायदे हैं जानिए यहां-

1. इस दिन दान करना आपको मृत्यु के भय से काफी दूर रखता है।
2. कहते हैं इस दिन गरीब बच्चों को दूध, दही, मक्खन, छेना, पनीर आदि का दान करते हैं तो मां सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त होता है।
3. अक्षय तृतीया के दिन विशेषकर जौ, तिल और का चावल का दान महत्वपूर्ण माना जाता है।
4. गंगा स्नान के बाद सत्तू खाने तथा जौ और सत्तू दान करने से आप अपने बुरे कर्मों के पाप से मुक्त होते हैं।
5. गरीबों को चावल, आटा, नमक, घी, मिष्ठान्न आदि देना आप पर आने वाले संकट को दूर करता है।

इंसान के लिए भगवान का कानून/कृपा कवच

धन की कमी, बेरोजगारी, बीमारी, कोर्ट–केस, विवाह–तलाक, पति–पत्नी में झगड़े, अशान्ति, आकस्मिक दुर्घटनाएँ, आग व चोरी, बेटा या बेटी ससुराल से परेशान इत्यादि समस्याओं का मुफ्त समाधान इस वेबसाईट को पढ़कर प्राप्त करें। या अपने भवन का नक्शा हमें dwarkadheeshvastu@gmail.com, पर ई–मेल करें, नक्शे में सही दिशाएँ, आस–पड़ोस के भवनों की ऊँचाई, खुला मैदान, तालाब या कोई गढ़ढ़ा होने पर अवश्य बताएँ।
        जिस घर में हम रहते हैं उस घर को वास्तु के अनुसार देखकर पूरे परिवार के जीवन में चल रहे सभी कार्य (घटनाएँ) ईश्वर की कृपा से बताई जा सकतीं हैं और घर को वास्तु के अनुरूप ईश्वर की प्रेरणा से बनाने पर सभी प्रकार की समस्याओं का समाधान हो जाता है। यह ईश्वर का विधान है।

नीचे दिए गए चित्रों को अपने घर से मिलाकर देखें।

वास्तु परमात्मा द्वारा निर्धारित नियम है, जैसे सूर्य / चन्द्रमा / प्रथ्वी / वायु ईश्वर के नियम के अनुसार ही प्रतिक्रिया कर रहे हैं। वैसे ही प्रथ्वी पर कोई भी जीव पशु, पक्षी या मनुष्य अपने धर्म, आध्यात्म व पारिवारिक रूप से छोटा व बड़ा होने के अनुसार ही उसे स्थान प्राप्त होगा। इसमे किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं हो सकता।
                प्रत्येक भवन मे मुखिया व बडे सदस्य सदैव साउथ-वेस्ट, साउथ-ईस्ट व नार्थ-वेस्ट भागों में ही निवास करेंगे। छोटे सदस्य सदैव उत्तर, पूर्व व नार्थ-ईस्ट भाग में ही रहेंगे। उदाहरण के लिए दिए गए चित्र देखें।

भकित संगीत मुफ्त डाउनलोड करें


संगीतमय रामायण

राम चरित मानस

सुंदर काण्ड

राम अमृत वाणी

शिव जी

गणेश जी

दुर्गा जी

भागवत गीता

सत्य नारायण जी

भागवत कथा

सांर्इ बाबा

बाबा नानक जी

वीडियो देखें / डाउनलोड करें


Ram Charit Manas Hindi Path

More Videos

Shrimad Bhagwat Geeta

More Videos



Sampurna Sunder Kand in Hindi

More Videos



Sampurna Sunder Kand in Avdhi

More Videos



Durga Mata Aarti

More Videos



Durga Saptashati

More Videos



Ramayan Ji ki Aarti

More Videos



Sundar Kand Path (Hindi)

More Videos

भकितमय विग्रह मुफ्त डाउनलोड करें


हनुमान जी

राम जी

राम चरित मानस

वास्तु विशेषज्ञ दिल्ली व एन0सी0आर0 में , भारत में वास्तु विशेषज्ञ , वास्तु विशेषज्ञ , वास्तु शास्त्र , मुफ्त वास्तु , वास्तु दोषों का मुफ्त समाधान, Vastu Consultant in Delhi & NCR, Vastu Expert in India, Vastu Consultat, Free Vastu, Vastu Shashtra, Free Remedies for Vastu Defects, Free Vastu Consultancy services, Indian Vastu Solutions, vaastu, vaastu shastra, Indian vaastu consultants, vaastu consultancy services, vaastu shastra, vaastu home, vaastu house, vaastu consultant, vaastu for office, vaastu home plans, vaastu bedroom, vaastu for offices, interior designers, vastu for homes, vastu for flats, vastu living, vaastu for peaceful life, heed interior decor